मंगलवार, 26 मई 2009

बस गरीब ये चाहत हुई


हमें शराब पीने की अज़ब ये अच्छी आदत हुई
हकीक़त को हकीक़त बोल बैठे ना जाने कौन-सी आफत हुई

आबाद हैं अभी हम,हमको तबाह ना समझो मगर हाँ ये सच है
बे नज़ीर इस विलायती मोहब्बत में बस गरीब ये चाहत हुई

कोई कायदा भी है कुछ उसूल भी, हम बड़े मासूम गुनाहगार भी
हमको मालूम नहीं जुल्म भी अपना,फिर सजा किस कसूर के बाबत हुई?

आज फिर करते हैं होंसलों की बातें वो, जो खुद ही किसी आग में जलते हैं
हमें किसी की जरुरत नहीं अकेले में इक सुकून मिला कुछ राहत हुई

कहीं दिलों में कुछ ख्वाब थे 'अक्षय' तो कहीं निगाहों में कुछ हकी़कत
हम आईने से लड़ा करते थे तक़दीर को लेकर न जाने कैसी हालत हुई ।
"अक्षय-मन "

15 टिप्‍पणियां:

  1. हकीकत को हकीकत बोल बैठे न जाने कौन सी आफत हुई ---- बहुत खूब।

    मेरे मालिक तू बता दे क्यों बना ऐसा जहाँ।
    सच को लाओ सामने तो दुश्मनी होती यहाँ।।

    सादर
    श्यामल सुमन
    09955373288
    www.manoramsuman.blogspot.com
    shyamalsuman@gmail.com

    उत्तर देंहटाएं
  2. अक्षय जी.....
    वाह-वाह बहुत ही सुन्दर लिखा है आपने.....
    मन लुभा गई आपकी रचना......

    उत्तर देंहटाएं
  3. kya baat hai akshay
    bhauta chi gazal likhi hai
    sukun akele me hi milta hai ..sahi kaha

    उत्तर देंहटाएं
  4. saja kiss kasoor k baabat huii ....

    bus itna hii likhna hai mujhe ....

    उत्तर देंहटाएं
  5. nice sundar koshis lage rahiye eeshwar aapko aur bhi achchha aur bhiiiiiiiiiiiiiiiiiiachchha likhna sikhayega.

    उत्तर देंहटाएं
  6. akshay bhaiyya,

    bahut dino baad aaye ho maidaan me , pahle to iski badhai sweekar kariyenga ..

    rahi baat nazm ki ,to ye kahun ki har sher nayaab tohafa hai aapka ham sab ke liye to koi atishyokti nahi hongi .. 4th sher to bus kamal ka hai aur hausala bhi badata hai .

    meri dil se badhai sweekar karo beta ..
    aur jaldi jaldi bahut si nazme likho ..

    haan , agar samay mile to mere blog par dastak dena .. nayi kavita --tera chale jaana -- aapke comment ka intjaar kar rahi hai ..

    vijay

    उत्तर देंहटाएं
  7. bahut badhiya rachna..........bahut dinon baad likhi aur lajawab likhi.

    उत्तर देंहटाएं
  8. वाह भाई अक्षय बेहतरीन रचना लिखी है और ब्‍लाग भी बहुत ही मन मोहक बनाया है शुभकामनाएं

    उत्तर देंहटाएं
  9. sach ko aapne sach sabit kar diya
    wo v iss tarah ki sachaiyeee buri na lagi

    उत्तर देंहटाएं