बुधवार, 24 दिसंबर 2008

भला ईश्वर कैसे जी जाते हैं ??


ज़िन्दगी देखी है हमने तुममे कहीं पनपती हुई पर
यहाँ तो बहुत से लोग मौत की चाहत में जी जाते हैं

प्यार को देखा है हमने दर्द के दामन में सर छुपाते हुए यहाँ
भटकते तो हम हैं सिर्फ़ इक आसरे की आरजू मे जी जाते हैं

धुप-छाँव का खेल है ज़िन्दगी, आती भी है तो कभी जाती भी
आना-जाना लगा रहेगा देखें हम भी कितने जन्म जी जाते हैं

कभी उन धडकनों को रुसवा ना करो जो दिल के दरवाजों पर
दस्तक देती है हम उन धडकनों की पनाह मे ताउम्र जी जाते हैं

"अक्षय" को तुम आज इतनी दुआ देदो की वो भी पत्थर बन जाए
देखना चाहता हूं पत्थर बनकर ,भला ईश्वर कैसे जी जाते हैं ??
भला ईश्वर कैसे जी जाते हैं ??
अक्षय-मन

27 टिप्‍पणियां:

  1. पत्थर बनाने की दुआ क्यूँ मांगी अक्षय?
    निराशा भरी यह मांग क्यूँ?
    ईश्वर तो ईश्वर है ,वो हर कण में जीता है..उस से क्या तुलना?
    यह कैसा प्रश्न है??हमारी दुआ है कि तुम हंसते खिलखिलाते रहो..
    जीवन धूप-छाँव का खेल ही तो है...बस यूँ ही चलते रहिये..
    कविता में भावों को आप ने
    बखूबी पिरोया है..बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  2. येही हुआ होगा शायद उन खुदाओं को
    तभी वो पत्थर से फ़िर न इंसान बन पाएंगे
    रिश्ते बने जो कहीं, छोड़ न पाएंगे
    मोम दिल वो इंसान, खुदा फ़िर न बन पाएंगे
    --------------

    बहुत ही अच्छा लिखा है आपने

    उत्तर देंहटाएं
  3. भाई हमलोग तो इंसानों की भावनाओं को पढने में ही आजिज हो जाते हैं, और आपने तो पत्थरों की तड़प उलझन को उकेर दिया है| चलिए ऐसे ही छेड़ते रहिये | पिछले कुछ २० दिनों अब से आपके ब्लॉग पर आ रहा हूँ, ये रचना मुझे अब तक की तक सर्वश्रेष्ठ लगी| जमाये रहिये|

    उत्तर देंहटाएं
  4. ye niraashaa kyon ..jivan main aashaaon kaa daaman nahi chodnaa chaahiye ..ishwar sabhi ko dekhtaa hai...

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहोत ही बढ़िया लिखा है आपने ढेरो बधाई स्वीकारें...


    अर्श

    उत्तर देंहटाएं
  6. कभी उन धडकनों को रुसवा ना करो जो दिल के दरवाजों पर
    दस्तक देती है हम उन धडकनों की पनाह मे ताउम्र जी जाते हैं
    waah behtarin rachana bahut badhai

    उत्तर देंहटाएं
  7. हृदय को स्पर्श कर जाने वाली रचना है


    ------------------------
    http://prajapativinay.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  8. धुप-छाँव का खेल है ज़िन्दगी, आती भी है तो कभी जाती भी
    आना-जाना लगा रहेगा देखें हम भी कितने जन्म जी जाते हैं

    kya baat hai
    jindagi ko utarana acha seekha hai a pne...

    उत्तर देंहटाएं
  9. अक्षय मन उन धडकनों की पनाह में ताउम्र जी जाते हैं
    फ़िर भी आया कभी आंसू तो हमराह ताउम्र पी जाते हैं
    ना जाने क्यूँ आया दिल में ख्याल पत्थर बनने का
    तेरा क्या,पत्थर बनकर तो भगवान् भी जी जाते हैं

    उत्तर देंहटाएं
  10. bhai gajab kaa likha hai

    mujhe is end bahut pasnand aaya jo kii tumne sahii me baad me likh kar bhii bahut acha likha hai .........

    उत्तर देंहटाएं
  11. प्यार ईश्वर की दिया अमूल्य वरदान है.....
    जब व्यक्ति को पत्थर बन जाने का दिल करता
    है,ईश्वर उसमें प्राण-संचार कर रहे होते हैं.....
    और ऐसे में खामोशी खूबसूरत होती है
    बहुत अच्छी है पर आशा कभी नहीं खोनी है

    उत्तर देंहटाएं
  12. कई बार पढी आपकी रचना लगा मन में कोई दुविधा है शायद इसलिए कविता में बिखराव है यूँ एक
    अच्‍छी बात है कि शब्‍दों में गहराई है थोडा संयत होकर लिखें...

    उत्तर देंहटाएं
  13. मन के भावः सुंदर तरीके से पिरोये हैं अक्षय जी
    गहरी बात कही है

    उत्तर देंहटाएं
  14. sundar rachna - par ishvar to hum sab mein hai, patthar to hamne hi tarasha hai apne sahare ke liye

    उत्तर देंहटाएं
  15. kya ho gaya hero... ye nirasha kyon aa gayi yaar.. hum eeshwar nahi hai ..... jeena to hai ,aur wo bhi poori himmat ke saath ..

    aur bhal patharo mein koi jeevan hota hai...

    tumhara naam hi akshay hai , jeene ka dusara naam ..

    itna accha likh rahe ho.. ye rachan shilp ke nazariye se best hai ..


    vijay
    pls visit my blog :
    http://poemsofvijay.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  16. इश्वर कैसे जी जाते हैं...वाह..बहुत सधी हुई अच्छी रचना है..लिखते रहें....
    नीरज

    उत्तर देंहटाएं
  17. dua mangi bhi to kya mangi..........uske patthar banne ki aur phir ishwar banane ki,phir uske jeene ki..........wah-wah

    उत्तर देंहटाएं
  18. बहुत खूब लिखा है. जबरदस्त.......... और हाँ फोटो सेलेक्शन बहुत ही अच्छा है.

    उत्तर देंहटाएं
  19. bhai pathhar banne ki duaa to nahi de sakte magar khush raho navavrSH MUBAARAK HO

    उत्तर देंहटाएं
  20. आपको तथा आपके पुरे परिवार को नव्रर्ष की मंगलकामनाएँ...साल के आखिरी ग़ज़ल पे आपकी दाद चाहूँगा .....

    अर्श

    उत्तर देंहटाएं
  21. नया साल...नया जोश...नई सोच...नई उमंग...नए सपने...आइये इसी सदभावना से नए साल का स्वागत करें !! नव वर्ष-२००९ की ढेरों मुबारकवाद !!!...नव-वर्ष पर मेरे ब्लॉग "शब्द-शिखर" पर आपका स्वागत है !!!!

    उत्तर देंहटाएं
  22. नव वर्ष के आगमन पर मेरी ओर से शुभकामनाएं स्वीकार कर अनुग्रहीत करें

    उत्तर देंहटाएं
  23. nayi si soch hai.. patthar ke bhi kayi gun hote hain . ishwar pattharon men nahi jite balki hum patthar men bhi ishwar khoj lete hain. rachna khoobsurat hai.
    badhai

    उत्तर देंहटाएं