शनिवार, 27 सितंबर 2008

सवाल

सवालों के शहर में जवाबों के जैसे अनजान मुसाफिर हो गए हम
हर आईने में दिखती हकीक़त के गुनाहगार हो गए हम

सवालों पर सवाल आते गए आते ही रहे
देखते ही देखते सवालों के बाज़ार हो गए हम

आईने के सामने होते हुए भी हकीक़त ना जान पाए
तेरा क्या बोलूं ख़ुद की निगाहों में बेज़ार हो गए हम

सवालों को अब सवाल ही रहने दो उन्हें तलाशों मत
हम तो पूरे लुट चूके सवालों के तलबगार हो गए हम

उल्फत क्या करूं उनसे जो ख़ुद इन सवालों से अनजान हैं
उनके लिए इन सवालों के मुफ्त के इश्तिहार हो गए हम

किस गफ़लत में हो मियां सभी इन सवालों की आगोश में हैं
इसी का इज़्हार करते-करते ग़मगुस्सार हो गए हम

ना गैरत,ना गुरुर,ना है गुबार कोई हम तो बस बेगुन्हा हैं
फिर क्यूँ सवालों की सलाखों के पीछे गिरफ्तार हो गए हम
अक्षय-मन

12 टिप्‍पणियां:

  1. सच ही तो है.......
    फिर क्यूँ सवालों में गिरफ्तार हो गए?
    सवालों का ताना-बाना बढिया है

    उत्तर देंहटाएं
  2. a nice question bhai......isi tarah ke sawal puchhte raho hamlogo se...jawab jaroor milega ek din..........excellent poem

    उत्तर देंहटाएं
  3. सच ही है
    घायल होगा पहला कवि
    आह से निकला होगा गान

    बहुत अच्छा!

    उत्तर देंहटाएं
  4. अच्छी लगी पर कवितये नहीं करती तो कुछ समझ में आया कुछ नहीं,,,,,,,,,पर अच्छी है,,,,,,,,,

    उत्तर देंहटाएं
  5. सवाल पीछा नहीं छोड़ते भाई......
    ...सुंदर रचना.....


    सस्नेह
    गीता पंडित

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत खुबसूरत, सवालो का जाल ही येसा है, पूरी जिंदगी उलझ कर रह जाती है |

    उत्तर देंहटाएं
  7. khubsurat likha hai akshay..dekho tumhaare shabdon ke dusre pahloo ko laakar main fir se inn shabdon ko pura kar raha hoon!

    ki

    kuch sawaalon ke jawaab na dhundo,
    inn masoom sawalon ko sawaal hi rehne do...
    insaan ho avtaar nahi.....
    insano ki tarah jeewan sawaalon main jine do!!

    palchhin chan chan gujar rahe..
    muskuraao, ye saathee hain inhe saath chalne do!
    apno ko paraya nahi kehte, na bharose khwaabon kee surat rehte!
    ye na honge to maut kee khamoshi hogee..
    jawaabon main na uljho, talaashne ke liye sawaalon ki jiwan mehak rahne do!!

    ...Ehsaas

    उत्तर देंहटाएं
  8. हर "सवाल" का "जवाब" नहीं होता.............
    कभी कोई "सवाल" ही नहीं होता.........
    जिस "सवाल" का "जवाब" नहीं होता...........
    असल में वो "सवाल" ही नहीं होता............
    पूछ लो जो पूछना है आज....
    क्या पता तुम्हारे "सवाल" का "जवाब" ही मिल जाये आज.........

    उत्तर देंहटाएं