शनिवार, 7 जून 2008

कला-कलाकार,कवि-कविता


कला-कलाकार,कवि-कविता और एकमात्र कल्पना,
कर-कर्ता,कलम-कागज और एकमात्र कामना

सजाना-संवारना,संस्मरण-शब्द्सुत्र और एकमात्र साधना,
शिल्प-शिल्पी,शब्द-शैली और एकमात्र शोभा

मानक-मीनाकारी,मर्म-मन और एक मात्र ममता,
वस्तु-विचित्र,वाक्य-व्यंजना और एकमात्र वंदना
अक्षय-मन

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

टिप्पणी प्रकाशन में कोई परेशानी है तो यहां क्लिक करें..