रविवार, 18 जनवरी 2009

क्या खोकर वापस आ जाते हैं ???

कभी-कभी बिन बरसे बादल जाते हैं
एक आँख में आंसू कम आ जाते हैं

जवाब
मांगता है तू जब भी मेरे अश्को का
मेरे दर्द तुझको,कम क्यूँ नज़र आ जाते हैं ?

बचपन मुझसे खेल गया कुछ ऐसे खेल
तमाशा तक़दीर का देखने लोग आ जाते हैं

तस्वीरों में ढूंढ़ता हूं ख़ुद की तस्वीर को
हर तस्वीर में वो नज़र आ जाते हैं

शिव का रूप देखा जिसमे वो शिवांगी बन गया
प्रार्थना-पूजा,वंदना-दुआ वो सबमे आ जाते हैं

अनमोल हूं कीमती हूं कुछ ऐसा-वैसा कहा था तुमने
खो दिया फिर क्यूँ तुमने क्या खोकर वापस आ जाते हैं ??
क्या खोकर वापस आ जाते हैं ???

अक्षय-मन

29 टिप्‍पणियां:

  1. अक्षय बढ़िया लिखा है आपने मगर ये शिवांगी कौन है भाई साहब...??????

    उत्तर देंहटाएं
  2. bahut acha likha hai akshay...

    khashkar anmol hu keemti hun..bali baat
    sahi to kaha..sab yahi to kahte hai phir na jane kyu keemti insaan ko bhul jate hai nakar jate hai..

    dil ko chhuti shandar rachna bhavpuran

    sakhi

    उत्तर देंहटाएं
  3. जो पल खो जाते हैं,बिखर जाते हैं,वे उन्हीं शक्लों में
    कभी नहीं लौटते..........बहुत तीखे,अकुलाये प्रश्न हैं

    उत्तर देंहटाएं
  4. tasveeron mein dhundhta hun khud ko------kya baat hai Akshay...aap to aaj behad bhaavuk hain..dard aur kuchh shikayat bhari kavita jo likh dali...

    Shivangi..Akshay ke prashno ka jawab do....kahan ho???

    उत्तर देंहटाएं
  5. बेहतरीन!!

    शिवांगी ने कुछ बोला??

    उत्तर देंहटाएं
  6. अक्षय जी
    सोच की उड़ान बहुत खूब है आपकी, सुंदर रचना

    उत्तर देंहटाएं
  7. हर तस्वीर में वो नजर आ जाते हैं....बहुत खूबसूरत रचना है आपकी लेकिन ये वो हैं कौन? गुप्त बात है तो रहने दें...बधाई
    नीरज

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत ही अच्‍छी लगी यह रचना...बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  9. बढ़िया गज़ल है अक्षय... बेहद सुंदर। खासकर यह पंक्ति -

    एक आंख में आंसू कम आ जाते हैं...

    उत्तर देंहटाएं
  10. har tasvir me vo najar aate hain waah. badhiya gajal hai. jaane wale pal laut kar to nahi aate hai. par ye to batayen ye shiwangi hai kaun.

    उत्तर देंहटाएं
  11. kya hero , kidhar bhatak rahe ho , ye shivaangi kaun hai .. naam pata bata . main rishta tay kar deta hoon..

    har tasweer mein wo nazar aati hai . kyon ..

    lagta hai bete , tujhe rog lag gaya ..

    ab koi ilaaz nahi hai .. kuch nahi ho sakta ... meri nayi kavita padho ... aur man ko tasalli do ..

    jokes apart , again you wrote very good gazal...

    mera dard tujhko kam kyon nazar aaten hai ..

    beta .tu to gaya re chore..... mujhe ab jaldi hi aana padhenga ..

    उत्तर देंहटाएं
  12. तू इन वन ,गजल कम प्रार्थना /प्रत्येक पंक्ति सुंदर/बादल के बरसने की आंसुओं से तुलना /ख़ुद से बेखवर रहने का अर्थ यह तो नहीं कि वो आईने में भी न दिखें /अपने दर्द दूसरों को कम ही नजर आते है ((वो मुझसे पूछते हैं दर्द कहाँ होता है ? अरे एक जगह हो तो बतादूँ कि यहाँ होता है ))बचपन खेल खेल भी गया और तमाशा भी बना गया /प्रेम की पराकाष्ठा अपनी तस्वीर में भी उनकी तस्वीर नजर आए /

    उत्तर देंहटाएं
  13. आप तो भाई खेलती हुई सी ग़ज़लें लिखते हैं..........थोड़ा खाती-पीती सी भी ग़ज़लें लिख लिया करो ना...........!!अक्षय भाई थोड़ा और उम्दा रचनाएं आपसे चाहता हूँ....!!कोशिश करें ना.... और हाँ,हर इक शेर पर थोड़ा ठहर कर सोच लें.....तत्पश्चात हर लाईन की रवानगी पर भी........हिन्दी ग़ज़ल ने शास्त्र की बंदिशों को तोड़ दिया है....किंतु रवानगी के अभाव में अच्छे भावों वाली रचना भी औसत या कमतर साबित हो जाती है.....वगरना तो हम सब ही गालिब,मीर ही ना बन जाते.....!!??

    उत्तर देंहटाएं
  14. बहुत अच्छी ग़ज़ल लिखी है आपने. कोशिश जारी रखें. बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  15. "Tamashaa dekhne..."lagtaa hai jaise mai apne aapse baaten kar rahee hun....itnee kam umr ho lekin vilakshan pratibha ke dhanee ho....naaz hai mujhe tumpe....
    Zindageeme khoob aage badhoge, ye wishwas hai...meree har duaa tumhare saath hai...kaamyaabee tumhare qadam choome...aur kya likhun ?

    उत्तर देंहटाएं
  16. अक्षय जी बहुत ही अच्छा लिखा है।

    उत्तर देंहटाएं
  17. hey nice ..
    lekin aap kya kahna chahte hai .. samjh nahi paaye...

    उत्तर देंहटाएं
  18. पहला वाला का मतलब थोडा समझ नहीं आया.. एक आँख से आसू कम आने का क्या मतलब है.

    बाकी मुझे भावात्मक रूप से अच्छी लगी..

    सादर
    शैलेश

    उत्तर देंहटाएं
  19. जो चला गया उसे भूल जाना ही बेहतर है, दुनिया से चले जाने वाले लौट कर कभी नहीं आते..शिवांगी ने तुम्हें ही नहीं तुमने भी शिवांगी को खोया है....वो दुनिया से हमेशा के लिए जा चुकी है..

    उत्तर देंहटाएं
  20. aap kmaal ka likhte hai to fir etni der se khamosh kyun hai kuchh kahiye to....

    उत्तर देंहटाएं