बुधवार, 24 जून 2009

तुमने अपनी कला से.....

पत्थरों में भी जान होती है ये मैंने तुमसे जाना है
इस पत्थर को जीवित कर दिया तुमने अपनी कला से...

रंगों में भी पहचान होती है ये मैंने तुमसे जाना है
इन रंगों को नया नाम दिया तुमने अपनी कला से....

हाथों में भी दुआ होती हैं ये मैंने तुमसे जाना है
इन हाथों से संसार संवार दिया तुमने अपनी कला से....

मौन चित्रों में आवाज होती है ये मैंने तुमने जाना है
इन चित्रों को एक सुर दिया तुमने अपनी कला से...
अक्षय-मन

20 टिप्‍पणियां:

  1. सुंदर रचना और भाव भी,
    अच्छा लगा,धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  2. मौन चित्रों मे आवाज होती है ................
    " इन पंक्तियों मे बहुत जान है....बहुत मनभावन प्रस्तुती , और ब्लॉग का ये नया पीला रंग आँखों को बेहद भाया...खुबसूरत.."
    regards

    उत्तर देंहटाएं
  3. सुन्दर अभिव्यक्ति....आपका ब्लॉग बहुत ही सुन्दर है यहाँ आ कर लौटने का मन नहीं करता...
    नीरज

    उत्तर देंहटाएं
  4. achchi bhav prastuti.............bas dekhne wali parkhi nazar honi chahiye.

    उत्तर देंहटाएं
  5. अक्षय जी आपकी ये कविता वाकई में बहुत ही ख़ूबसूरत और शानदार है! चित्र भी बहुत सुंदर है!

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहूत ही सुन्दर चित्र के साथ अपने मन के गहरे भाव को लिखा है ...............सच कहा मौन चित्रों में भी आवाज़ होती है......... बधाई सुन्दर रचना के लिए

    उत्तर देंहटाएं
  7. Akshay,
    Tumhere alfaazon yaa abhiwyakti ke baareme kuchh nahee kahungi..tumharee ye kala mujhe nishabd kar detee hai..
    Aur Neeraj ji se sahmat hun...blog ko sach me itna sundar bana rakha hai, ki, dertak niharte rahne ka man karta hai...! Kaash mujhe apna blog banate samay kuchh avadhi mili hoti!
    snehsahit
    shama

    उत्तर देंहटाएं
  8. akshay ,

    is baar main bahut der se tumhari is kavita ko padh raha hoon ...

    mere pass shabd nahi hai aapki tareef ke liye .......

    har pankti ek nayi baat kahti hui hai aur tumhare lekhan ki kala ko darshati hui hai ..

    tumhara bahut abhaar is post ke liye ..

    tumhara
    vijay

    उत्तर देंहटाएं
  9. बुरा न मानना अक्षय आया तो था टिप्पणी देने पर लगातार दो ऐसी कवितां पढ़ कर टिप्पणी देने का मन नहीं रह गया ' ऐसी........कविताएँ ?

    हाय सारी अनुभूतियाँ मंत्रविद्ध सी ,
    निश्चल हो गयीं, स्वर-वाणी भी खोयी ;
    भाव-सागर में जो मैं डूबा फिर न उतराया,
    संवेदनाओं की आंधी में मेरा शब्दकोष छितराया ||

    खुश कित्ता ,तुसी छा गए !!!!!

    उत्तर देंहटाएं
  10. तुमने भी इन शब्दों में जान भर दी अपनी कला से

    बहुत अच्छे..
    लिखते रहो और खुश रहो

    उत्तर देंहटाएं
  11. अक्षय,
    तुमने जो चित्र लगाये हैं वो भी बहुत खूसूरत हैं, बधाई

    स्वप्न मंजूषा 'अदा'

    उत्तर देंहटाएं